Tuesday, December 6, 2022

Garibi Par Shayari In Hindi Poverty Status Kavita (Poverty)

Garibi Par Shayari (Poverty) - उस वक्त की तलाश में हूं।

खुद के लिए वक़्त निकलू, उस आश में हू।

कितने वक्त से उस वक्त की तलाश में हूं।

परिवार चलता नहीं है मेरे कुआ खोदने से,

फिर मैं किसी फुरसत की तलाश में हूं।

 

दो वक़्त की रोटी कमाने के लिए,

मैं नगे पैर दूर तलक चलता हूं।

पसीने से लथपथ रहती है काया,

मैं गिर गिर के सम्भलता हूं।

मेरे बच्चो के तन पर हो कपड़ा,

इस चाह में परवाह नहीं किसी लिबाश में हूं। 

 

नेकी हो ईमानदारी हो,

पर मुझ सी ना लाचारी हो।

मेरे बच्चों के नसीब में,

ना मुफलिसी की बीमारी हो।

ना दौलत ना शौहरत, मेरे बच्चे पढ़ लिख जाये,

मैं उस हसरत की तलाश में हूं। 

I will find time for myself, I am in that hope.

For how long have I been looking for that time?

The family does not survive by digging my well,

Then I am looking for some leisure.

 

To earn bread for two times,

I walk barefoot.

The body is soaked in sweat,

I fall and fall.

There should be cloth on the body of my children,

I do not care about this desire, I am in any dress.

 

Be honest, be honest

But don’t be helpless like me.

In the fate of my children,

Do not have any disease of failure.

Neither wealth nor fame, my children should read and write,

I am looking for that passion.

 

Garibi Par Shayari (Poverty) - खुद के लिए वक़्त निकलू,

खुद के लिए वक़्त निकलू, उस आश में हू।

कितने वक्त से उस वक्त की तलाश में हूं।

परिवार चलता नहीं है मेरे कुआ खोदने से,

फिर मैं किसी फुरसत की तलाश में हूं।

Shayari on Poverty

Garibi Par Shayari (Poverty) - I will find time for myself,

I will find time for myself, I am in that hope.

For how long have I been looking for that time?

The family does not survive by digging my well,

Then I am looking for some leisure.

Shayari on Poverty

Garibi Par Shayari (Poverty) - दो वक़्त की रोटी कमाने के लिए,

दो वक़्त की रोटी कमाने के लिए,

मैं नगे पैर दूर तलक चलता हूं।

पसीने से लथपथ रहती है काया,

मैं गिर गिर के सम्भलता हूं।

मेरे बच्चो के तन पर हो कपड़ा,

इस चाह में परवाह नहीं किसी लिबाश में हूं। 

Shayari on Poverty

Garibi Par Shayari (Poverty) - To earn bread for two times,

To earn bread for two times,

I walk barefoot.

The body is soaked in sweat,

I fall and fall.

There should be cloth on the body of my children,

I do not care about this desire, I am in any dress.

Shayari on Poverty

Garibi Par Shayari (Poverty) - नेकी हो ईमानदारी हो,

नेकी हो ईमानदारी हो,

पर मुझ सी ना लाचारी हो।

मेरे बच्चों के नसीब में,

ना मुफलिसी की बीमारी हो।

ना दौलत ना शौहरत, मेरे बच्चे पढ़ लिख जाये,

मैं उस हसरत की तलाश में हूं। 

Shayari on Poverty

Garibi Par Shayari (Poverty) - Be honest, be honest

Be honest, be honest

But don’t be helpless like me.

In the fate of my children,

Do not have any disease of failure.

Neither wealth nor fame, my children should read and write,

I am looking for that passion.

Shayari on Poverty

Related Articles

Stay Connected

9,732FansLike
256FollowersFollow
29FollowersFollow
1FollowersFollow
SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles