Teri Yaad Shayari || तेरी याद शायरी इन हिंदी

ना मौत आई ना तेरे आने की खबर, बस तेरी यादों के संग जीना है। बिन बुलाये ही आ जाती है, संग यादों के जुदाई का जहर पीना है।

सब बिखर के खाख हुआ, तेरे जाने के बाद। बस रही तेरी याद, और तड़पती अँधेरी रात।

क्या कहें काल-ऐ-दिल का, बस तेरी यादों के संग जी रहे हैं। तेरे आने की राह तकते हैं, तन्हां अकेले गम-ए-दर्द सी रहे हैं।

तुझसे बिछड़के कब के मर गए होते, कमबख्त तेरी यादों ने जिन्दा रखा है। खबर ना कोई तेरा पता, फिर क्यों तुमसे मिलने के ख्वाबों ने जिन्दा रखा है।

जब जब सोना चाहा गहरी नींदों में, तेरी यादों ने जगाया मुझे। यादें सम्भाल लेती हैं मुझे, तूने तो बिछड़ के बहुत रुलाया मुझे।

यूँ तो उदासी का खुमार छाया है मुझपे, मगर तेरी यादें कभी मुस्कुराने की वजह बन जाती हैं। छुप-छुपा के मिलना हंस मुस्कुरा के बतियाना, वो बातें कभी मुस्कुराने की वजह बन जाती हैं।

तेरे जाने के बाद, या तो तन्हाई थी या फिर थी तेरी यादें। ना पहले मुस्कुराये, ना आज काबुली जाती हैं फरियादें।

जब छलक आते हैं आंसू, मेरी पलके क्या दामन भी भीग जाता है। तेरी यादों का सहारा है, वरना किसे दर्द-ए-दिल नहीं तड़पाता है।