इंतज़ार शायरी इन हिंदी

वो मुसाफिर चला गया, जगा के मेरे दिल में प्यार। सब लूट ले गया मुझसे, शेष रहा तो बस इंतज़ार।

हालात तो ना मिलन के हैं, मगर उम्मीद जिन्दा हैं इंतजार की। जन्म तो हुआ बड़ा ना हो सका, बड़ी छोटी उम्र थी मेरे प्यार की।

आँखे नम रखी जब से अधूरे प्यार में। रास्ते को घर बनाया उनके इंतज़ार में।

उसके आने की खबर ना महके फूल अब की बहार में। बेजान सी हो गई आँखें, सुख गया नीर उसके इंतज़ार में।

मैं ढलती उम्र की फसल, कोई ख्वाहिश ना बहार की। ये जान लगा है मुझे बेवजह बीती घड़ियां इंतजार की।

मेरे अश्क सूखने से पहले, काश खत्म हो जाये घड़ियां इंतज़ार की। मिटा दिए दिल के अरमान, आखरी रही ख्वाहिश उसके दीदार की।

भूलना तो चाहा, मगर भूल जाना मेरे इख़्तियार में कहाँ। जो पास होने में सुकु था, वो करार अब इंतज़ार में कहाँ।

Love Sad Intazar Status

लाल हुई आँखे मेरी बहते बहते उसके इंतज़ार में। बस रह गया उसकी राह तकना मेरे इख्तियार में।