Friday, May 24, 2024
HomeLove sadUrdu Shayari in Hindi on Love Pain - बेवफाओं के सौदागर हैं।

Urdu Shayari in Hindi on Love Pain – बेवफाओं के सौदागर हैं।

Urdu Shayari – उनसे क्या वफ़ा की उम्मीद रखें,

उनसे क्या वफ़ा की उम्मीद रखें, जो बेवफाओं के सौदागर हैं।

पल भर के सुकूं के साथ ताउम्र इंतजार, मुसाफिर ना हमसफ़र हैं।

What loyalty can be expected from them, who are the traders of unfaithfulness.

Waiting for a lifetime with a moment’s peace, there are no travelers or companions

Urdu Shayari – तेरी यादों में हम ऐसे खोये,

तेरी यादों में हम ऐसे खोये, के तेरी बेवफाई का अहसास नहीं रहा।

हर मोड़ पर कोई ना कोई टकराया, पर तुझसा कोई खास नहीं रहा।

I got lost in your memories in such a way that I could not feel your infidelity.

Somebody collided at every turn, but no one was special like you.

Urdu Shayari – भूले ना अधूरा सपना है,

भूले ना अधूरा सपना है, तुमसे फिर मिलने की तमन्ना है।

तन्हाई डसती है पल पल, मुझे तेरा हो कर रहना है।

Do not forget that it is an incomplete dream, I wish to meet you again.

Loneliness stings every moment, I want to be yours

Urdu Shayari – बड़ा दूर है जीवन का किनारा,

बड़ा दूर है जीवन का किनारा, क्यों बिच मझधार छोड़ा है।

ये दिल तो चाहता था तेरी खुशियाँ, फिर क्यों बेरहमी से तोड़ा है।

The edge of life is far away, why have you left the middle.

This heart wanted your happiness, then why has it brutally broken it.

Urdu Shayari – तेरी फ़िक्र, तेरा ख्याल,

तेरी फ़िक्र, तेरा ख्याल, तुझे सांसों की माला में पिरोया था।

खलता है तेरा खफा होना, हर पल तेरी खुशियों का संजोया था।

Your worries, your thoughts, you were threaded in the garland of breaths.

It hurts to be angry with you, I cherished every moment of your happiness

“उलझन: ये प्यार है या बेवफाई?” (Confusion: Is it Love or Betrayal?)

Urdu Shayari – उसी मोड़ पर है तेरा इंतजार,

उसी मोड़ पर है तेरा इंतजार, जहाँ तुम छोड़ कर गए थे।

हसरते जिन्दा अभी भी हैं, तुम तो आश तोड़ कर गए थे।

Waiting for you at the same turn, where you had left.

Laughter is still alive, you left after breaking your hope.

Urdu Shayari – क्यों चाहते मुकम्मल नहीं होती,

क्यों चाहते मुकम्मल नहीं होती, खुदा के घर भी इश्क़ की इबादत कबूल नहीं होती।

महलों में दिल छोड़ दिया यही कुसूर था मेरा, क्या खुदा से कभी भूल नहीं होती।

Why the wish is not fulfilled, the worship of love is not accepted even in the house of God.

It was my fault that I left my heart in the palaces, doesn’t God ever make a mistake?

Urdu Shayari – तुझसे कुछ ना माँगा था,

तुझसे कुछ ना माँगा था, आखिरी एक इनायत कर दो।

मुझे याद ना आया करो, पूरी मेरी ये हसरत कर दो।

I didn’t ask you for anything, do me one last favor.

Don’t miss me, fulfill this desire of mine

RELATED ARTICLES

Most Popular