Sad Shayari | Latest Sad Status | Top Sad Shayari

Sad Shayari | Latest Sad Status | Top Sad Shayari

Sad Shayari | Latest Sad Status | Top Sad Shayari
Latest Sad Status

टूट जाता है एतबार, रह जाता है एतराज।

कोई ना किसी का, ये पहचाना है आज।

बहुत तकलीफ होती है, जब यकीं टूटके बिखरता है।

छुरियों के घाव भरते देखे हैं, बातों का घाव ना भरता है।

काँप उठता है इंसान जब कोई अपना वार करता है।

तड़प उठती है रूह सदमे से दिल दहलता है।

अकसर टूटते देखे हैं, जब नशीब होता है नाराज़।

टूट जाता है एतबार ……………………

किसी की लगी बुझाने चले थे, खुद को जला बैठे हैं।

सड़क से उठा के अपना बनाया, खुद के ख़फ़ा बैठे हैं।

कुछ पा ना सके हम, और सब कुछ गवा बैठे हैं।

उनकी खुशियों की खातिर, खुद को मिटा बैठे हैं।

दिल को झंझोड़ रहा है, जो था कभी राज़।

टूट जाता है एतबार ………………………

When it breaks, the objection remains.

It is recognized by someone or the other today.

It hurts a lot when it breaks and shatters.

I have seen the wounds of knives heal, the wounds of things do not heal.

A person trembles when someone strikes himself.

The heart trembles with the shock of the soul.

Have often seen broken, when there is luck, angry.

It breaks down...............

Went to extinguish someone's fire, have burnt themselves.

Got up from the road and made his own, sitting angry with himself.

We can't get anything, and we have lost everything.

For the sake of their happiness, they have wiped themselves out.

The heart is shaking, which was once a secret.

It breaks down ………………………