Sunday, January 29, 2023
HomeLove sadSad Shayari, Kismat Se Shiqwa To Nahi

Sad Shayari, Kismat Se Shiqwa To Nahi

Sad Shayari - माना के आंसुओं की कहानी

माना के आंसुओं की कहानी खुद ने लिखी, मगर मैं बेवफा नहीं।

क्यों करू उससे शिकायत, जब मुझे किस्मत से शिकवा नहीं।

I agree that I wrote the story of tears, but I am not unfaithful.

Why should I complain to him, when I have no complaint with my luck.

sad shayari

Sad Shayari - मुझे किस्मत से शिकवा तो नहीं है

मुझे किस्मत से शिकवा तो नहीं है,

लेकिन मोहब्बत हार के जीना बहुत मुश्किल होता है।

तड़प तड़प के गुजरे रात और तन्हां जब दिल रोता है।

I am not taught by luck,

But it is very difficult to live after losing love.

Nights passed in agony and lonely when the heart cries.

Sad Shayari - जुल्मो-सितम सहे जिस के खातिर,

जुल्मो-सितम सहे जिस के खातिर, वो इंसान कितना संगदिल निकला।

अब शायद सांसे थम जाये, अब तक का हर एक पल मुश्किल निकला।

For the sake of whom he had to bear oppression, that person turned out to be so kind hearted.

Now maybe the breath will stop, every single moment so far has turned out to be difficult.

sad shayari

Sad Shayari - शिकवा ना कोई शिकायत है

शिकवा ना कोई शिकायत है अब किस्मत से मुझे।

आंसू मेरे हक़ में है, क्या फर्क पड़ता नफरत से मुझे।

I don’t have any complaints or complaints, luckily now.

Tears are in my favor, what difference does hatred make to me.

sad shayari

Sad Shayari - ना शिकवा करू किस्मत से,

ना शिकवा करू किस्मत से, ना उम्मीद रखू मैं मोहब्बत से।

ना किसी मेहरबानी के मोताज, बहुत रोये उसकी इनायत से।

Neither should I complain about luck, nor should I expect from love.

Neither dependent on any kindness, cried a lot because of his grace.

sad shayari

Sad Shayari - हजार सहे जुल्मो-सितम,

हजार सहे जुल्मो-सितम, किस्मत से फिर भी शिकवा नहीं।

मोहब्बत का बक्सा तोहफा था, उसकी भी तो खता नहीं।

Thousands of oppressions and tortures, Still not complaining about luck.

The box of love was a gift, it’s not even a mistake

sad shayari

Sad Shayari - किस से गीला करू,

किस से गीला करू, मैं किस से शिकवा करू।

किस्मत को दोष दू, या इल्जाम खुद पर रखू।

जो टूटा एतबार वो फैसला मेरा था,

खुद ही मरहम लगा के दिल के जख्म कैसे भरु।

With whom should I get wet, with whom should I complain.

Blame luck, or put the blame on yourself.

The broken trust was my decision,

How to heal the wounds of the heart by applying ointment on your own

sad shayari

Sad Shayari - मुझे किस्मत से शिकवा नहीं है

मुझे किस्मत से शिकवा नहीं है, ये हालात मैंने खुद बनाये हैं।

उसे कोई बेवफा ना कहे, इसलिए ये आंसू अब तक छुपाये हैं।

I don’t have any complaints with luck, I have created these situations myself.

No one should call him unfaithful, that’s why these tears are still hidden

sad shayari
- -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

Related News