Saturday, January 28, 2023
HomeLove sadSad Poems About Love and Pain ‘बाद तेरे कोई लम्हा ना मुस्कुराया...

Sad Poems About Love and Pain ‘बाद तेरे कोई लम्हा ना मुस्कुराया है’

Sad Poems About Love and Pain - मेरे आंसुओं का तमाशा बनाया है

मेरे आंसुओं का तमाशा बनाया है, जालिम ज़माने ने बहुत सताया है।

कहाँ गया तू मुझे छोड़ कर, बाद तेरे कोई लम्हा ना मुस्कुराया है।

They have made a spectacle of my tears, the tyrannical world has tortured me a lot.

Where have you gone leaving me, after that you have not smiled for a moment.

sad poems about love and pain

Sad Poems About Love and Pain - संग तेरे जीते थे जिंदगी,

संग तेरे जीते थे जिंदगी, तुझसे बिछड़ कर सिर्फ बोझ उठाया है।

कहाँ गया तू मुझे छोड़ कर, बाद तेरे कोई लम्हा ना मुस्कुराया है।

I used to live life with you, I have only borne the burden after separating from you.

Where have you gone leaving me, after that you have not smiled for a moment.

sad poems about love and pain

Sad Poems About Love and Pain - जब जब गम की परछाई ने सताया,

जब जब गम की परछाई ने सताया, तूने हर दफा बहलाया है।

कहाँ गया तू मुझे छोड़ कर, बाद तेरे कोई लम्हा ना मुस्कुराया है।

Whenever the shadow of sorrow troubled you, you have amused me every time.

Where have you gone leaving me, after that you have not smiled for a moment.

sad poems about love and pain

Sad Poems About Love and Pain - सिसकता रहा दिल मेरा

सिसकता रहा दिल मेरा जुल्म-ओ-सितम से, ना किसी ने सहलाया है।

कहाँ गया तू मुझे छोड़ कर, बाद तेरे कोई लम्हा ना मुस्कुराया है।

My heart kept sobbing due to oppression, no one has comforted me.

Where have you gone leaving me, after that you have not smiled for a moment.

sad poems about love and pain

Sad Poems About Love and Pain - उलझ गई है जिंदगी आंसुओ में,

उलझ गई है जिंदगी आंसुओ में, ये जीवन ना सुलझ पाया है।

कहाँ गया तू मुझे छोड़ कर, बाद तेरे कोई लम्हा ना मुस्कुराया है।

Life is entangled in tears, this life has not been resolved.

Where have you gone leaving me, after that you have not smiled for a moment.

sad poems about love and pain

Sad Poems About Love and Pain - किसी के पाई ना आँखों में हया,

किसी के पाई ना आँखों में हया, तन्हाई ने भी बहुत तड़पाया है।

कहाँ गया तू मुझे छोड़ कर, बाद तेरे कोई लम्हा ना मुस्कुराया है।

There is no shame in anyone’s eyes, loneliness has also made me suffer a lot.

Where have you gone leaving me, after that you have not smiled for a moment.

sad poems about love and pain

Sad Poems About Love and Pain - तुझसे था वजूद मेरा,

तुझसे था वजूद मेरा, बिन तेरे हर किसी ने मुझे ठुकराया है।

कहाँ गया तू मुझे छोड़ कर, बाद तेरे कोई लम्हा ना मुस्कुराया है।

My existence was because of you, without you everyone has rejected me.

Where have you gone leaving me, after that you have not smiled for a moment.

sad poems about love and pain

Sad Poems About Love and Pain - अब तो लोट आ संगदिल,

अब तो लोट संगदिल, जुदाई का जहर बहुत पिलाया है।

कहाँ गया तू मुझे छोड़ कर, बाद तेरे कोई लम्हा ना मुस्कुराया है।

Now come back Sangdil, you have been given a lot of poison of separation.

Where have you gone leaving me, after that you have not smiled for a moment.

sad poems about love and pain
- -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

Related News