Beautiful Motivational Ghazal in Hindi | प्रेरणादायक के विषय पर बेहतरीन ग़ज़ल

2461
jo hu wo

Motivational Ghazal – जो हूँ वो मैं कहता नहीं।

motivational

Doesn’t look like the time, I do not say who I am

I was ignorant I was ignorant I don’t read any alphabets.

The body should not turn black. I cannot bear the heat of labor.

Dirty looks like the neer of life, I do not flow like a river.

how to expect destination I don’t walk continuously.

How do my dreams come true, Realize I never do them.

how to color the future Currently does not color.

ज़माने के जैसा दीखता नहीं,

जो हूँ वो मैं कहता नहीं।

अज्ञानी था अज्ञानी हु,

के अल्फाज मैं कोई पढता नहीं।

काला ना पड़ जाये बदन,

श्रम की तपन मैं सहता नहीं।

गंदा दिखे जीवन का नीर,

के नदी सा मैं बहता नहीं।

मंजिल की उम्मीद कैसे करू,

मैं लगातार चलता नहीं।

सपने मेरे सच हो कैसे,

साकार मैं उन्हें कभी करता नहीं।

भविष्य को रंगीन करू कैसे,

वर्तमान में रंग भरता नहीं।