Tuesday, December 6, 2022

Mosam Shayari in Hindi || मौसम पर शायरी और स्टेटस

Mosam Shayari - मौसम बदलने की राह तकते हैं,

मौसम बदलने की राह तकते हैं, बारिश की बूंदों के लिए तड़पते हैं।

हम आंसू छुपाना चाहते हैं, बदले मौसम तो लगे के बादल बरसते हैं।

Waiting for the weather to change, yearning for the drops of rain.

We want to hide our tears, but when the weather changes, it rains.

Mosam Shayari

Mosam Shayari - बदला है मौसम,

बदला है मौसम, आज चली हैं पुरवाई कुछ यार की बीती यादें लेके।

याद आ रहे हैं जो खफा हो गए शहर की आबो हवा की बातें लेके।

The weather has changed, today the east has gone with the past memories of some friends.

I remember those who became angry with the air of the city.

Mosam Shayari

Mosam Shayari - किस बात का गुरुर है

किस बात का गुरुर है जो अब बदलने लगा है मौसम की तरह।

पराया सा समझने लगा है मुझे, जो था कभी हमदम की तरह।

What is the matter of pride which is now changing like the weather?

I have started to understand like a foreigner, who was once like a lover.

Mosam Shayari

Mosam Shayari - बदले मौसम, बदले हैं नज़ारे,

बदले मौसम, बदले हैं नज़ारे, बदला मेरा यार है।

पतझड़ आया जिंदगी में, बेवफा निकला प्यार है।

The weather has changed, the views have changed, and my friend has changed.

In the fall of life, love has turned out to be unfaithful.

Mosam Shayari

Mosam Shayari - कभी बारिश थी मोहब्बत की

कभी बारिश थी मोहब्बत की, अब मौसम सा बदलने लगा है।

झड़ गए इश्क़ के पत्ते, प्यार सूखा सा दरख्त दिखने लगा है।

Once it was the rain of love, now the weather has started changing.

The leaves of love have fallen, and love is starting to look like a dry tree

Mosam Shayari

Mosam Shayari - मौसम बदले ना बदले,

मौसम बदले ना बदले, पर मेरा यार का मिज़ाज़ बदल गया है।

कभी ना बदलने का वादा करके, वो आंधी सा फिसल गया है।

The weather may not change, but my friend’s mood has changed.

Promising never to change, a storm has slipped by.

Mosam Shayari

Mosam Shayari - मौसम का रुख बदलने की

मौसम का रुख बदलने की बातें करने वाले, खुद बदल गए मौसम से।

तन्हाई के अंधेरों में तन्हा छोड़ जिंदगी, मेरे रकीब हो गए हमदम से।

For those who talk about changing the course of the weather, the weather itself has changed.

Life left alone in the darkness of loneliness, I have become my enemy.

Mosam Shayari

Mosam Shayari - सुन के मेरे दर्द-ए-इश्क़ के किस्से,

सुन के मेरे दर्द-ए-इश्क़ के किस्से, मौसम भी रोने लगा है।

मेरे आँखें नम हुई सो हुई, ये आसमां भी आपा खोने लगा है।

After listening to the stories of my pain-e-ishq, the weather has started crying.

My eyes became moist and fell asleep, this sky is also losing its temper

Related Articles

Stay Connected

9,733FansLike
255FollowersFollow
29FollowersFollow
1FollowersFollow
SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles