Tuesday, December 6, 2022

Khwab Shayari in Hindi, ख्वाब के लिये शायरी और स्टेटस || ख्वाब शायरी

Khwab Shayari - खुली आँखों में सजाये थे ख्वाब,

खुली आँखों में सजाये थे ख्वाब, हर ख्वाब अधूरा रह गया। 

पल भर का था इश्क़ का खुमार, वो भी आंसू बन बह गया।

Dreams were decorated with open eyes, every dream remained incomplete.

There was a moment of love for a moment, that too became a tear.

khwab shayari

Khwab Shayari - इश्क़-ए-मोहब्बत में देखा ख्वाब,

इश्क़-ए-मोहब्बत में देखा ख्वाब, पूरा हो न सका।

मुकम्मल होता भी कैसे, मैं सारी रैन सो न सका।

The dream seen in Ishq-e-Mohabbat, could not be fulfilled.

How could it have been complete, I could not sleep the whole night

khwab shayari

Khwab Shayari - परछाई बनकर रहते थे मेरी,

परछाई बनकर रहते थे मेरी, अब बस ख्वाब बनकर रह गया है।

अब ना शायद दीदार-ए-नैन हो उसका, हर ख्याल कह गया है।

I used to live as a shadow, now it has just become a dream.

Now it may not be Deedar-e-Nain, every thought has been said.

khwab shayari

Khwab Shayari - कब्र में जाने तक टूट जाएगा,

कब्र में जाने तक टूट जाएगा, उससे तलूक रखता हर ख्वाब।

पूछुंगा उस खुदा से, क्या होगा अधूरे इश्क़ का कोई जबाब।

Will be broken till he goes to the grave, every dream related to him.

I will ask God, what will be the answer to the incomplete love.

khwab shayari

Khwab Shayari - हकीकत बनने से पहले

हकीकत बनने से पहले ही मेरे ख्वाबों का महल ढह गया।

ऐसी बरसी यार की इनायत, उस बारिश में सब बह गया।

The palace of my dreams collapsed even before it became a reality.

Such a rainy man’s grace, everything got washed away in that rain.

khwab shayari

Khwab Shayari - चाहत हुई ना मुकम्मल,

चाहत हुई ना मुकम्मल, बस चाहने के ख्याल रह गए हैं।

ना वो आए, ना उसकी कोई खबर, बस ख्वाब रह गए हैं।

The desire is not complete, only the thoughts of wanting are left.

Neither he came, nor any news of him, only dreams remain.

khwab shayari

Khwab Shayari - यूँ तो वो खफा रहते हैं मुझसे,

यूँ तो वो खफा रहते हैं मुझसे, बस ख्वाबो में मिलने आते हैं।

कहने को तो कहते हैं प्यार नहीं तुमसे, फिर क्यू सताते हैं।

Like this, they are angry with me, they just come to meet me in dreams.

It is said to say that if you do not love, then why are you persecuted.

khwab shayari

Khwab Shayari - जानते हैं अधूरी हैं ख्वाहिशें,

जानते हैं अधूरी हैं ख्वाहिशें, झूठे हैं ख्वाब सारे, वो कभी हकीकत ना बनेंगे।

झूठी आश भी जरुरी है जिन्दा रहने के लिए, वरना दीवाने मोहब्बत ना करेंगे।

Know that dreams are unfulfilled, all dreams are false, they will never become reality.

False hopes are also necessary to survive, otherwise the crazy will not love.

khwab shayari

Related Articles

Stay Connected

9,733FansLike
255FollowersFollow
29FollowersFollow
1FollowersFollow
SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles