Emotional Shayari On Khamoshi

Emotional Shayari On Khamoshi

1. Emotional Shayari in hindi Khamoshi

Emotional Shayari in hindi Khamoshi
Emotional Shayari in hindi Khamoshi

उसने कहा बैठे हो क्यू गुमसुम, सुना दो कोई दास्तान।

मन मेरा बहल जाये, यार तुम ऐसा करो कुछ ब्यान।

उस पागल को कैसे समझाता, के मैं खुद एक किस्सा बन गया हूँ।

बर्बादी की लपेटे हूँ चादर, और खामोशी का मैं हिस्सा बन गया हूँ।

अपने हाथों से ही छीन ली, मैंने मेरे होठों की मुस्कान।

उसने कहा बैठे हो क्यू …………………………………………

इसे बदनसीबी का नाम देके, नशीब की तौहीन करू कैसे।

काँटे बो लिए थे ज़िंदगी में, अब दामन फूलों से भरु कैसे।

जिन्हे अपना समझा वो गैर निकले, अपनों से रहा अनजान।

कैसे सुनाऊ मैं उसे, अपनी बर्बादी की कहानी।

देख ना पाऊंगा मैं, नादाँ यार के नैनो में पानी।

कैसे छोड़ दू मैं उसकी ज़िंदगी में उदासी का कोई निशान।

उसने कहा बैठे हो क्यू ………………………………………..

यही वजह थी की खामोशी का दामन ना मैंने छोड़ा।

बदनाम कहीं वो ना हो जाये, इसलिए मैंने मुँह मोड़ा।

ना चाहते हुए भी छुपानी थी, उसे बर्बाद कर देती मेरी पहचान।

उसने कहा बैठे हो क्यू …………………………

He said that you are sitting, why are you missing, listen to some story.

My mind should be blown away, man you do something like this.

How would I explain to the madman that I myself have become an anecdote.

I am a sheet of waste, and I have become a part of the silence.

I snatched the smile from my lips.

Where are you sitting why ……………………………………………

By giving it the name of bad luck, how can I insult Nasheeb?

Thorns were planted in life, now how can I fill my arms with flowers?

Those who considered themselves to be non-existent, remained unknown to their loved ones.

How can I tell him the story of my ruin?

I will not be able to see, the water in the nano of nadaan yaar.

How do I leave any trace of sadness in his life?

Where are you sitting why ………………………………………..

This was the reason why I did not give up the silence.

He should not be infamous, so I turned my face.

I had to hide it even without wanting, it would have ruined my identity.

Where are you sitting?

2. Emotional Shayari Kabhi Rubru Hui Naa Khushiya…

Emotional Shayari Kabhi Rubru Hui Naa Khushiya…
Khamoshi

कभी रूबरू हुई ना खुशियाँ, के मुझे मिले दर्द ऐ गम ही ऐसे थे।

मुकमल होता भी कैसे सुकून, ढाने वालों के सितम ही ऐसे थे।

गुजरता गया वक़्त और हम सहते रहे, खून के आंसू थे और बहते रहे।

टूट के एक दिन बिखर जाओगे, कुछ चाहने वाले ये कहते रहे।

ना कभी भरे, ना कभी भरेंगे, मिले मुझे जख्म ही ऐसे थे।

कभी रूबरू हुई ना खुशियाँ …………………………………….

मैं करता तो भी क्या यारों, इस कदर वक़्त के हाथों मजबूर था।

ज़िंदगी बिक गई थी मेरी बदनशीबी के हाथों, फिजाओं से कोषों दूर था।

किसी भी हद तक गुजरना आम बात थी, वो बेरहम ही ऐसे थे।

कभी रूबरू हुई ना खुशियाँ …………………………………….

जब याद आते हैं वो फरेब रूह मेरी काँप जाती है,

इस कदर टुटा हूँ, खुद की सूरत भी ना राश आती है।

बरसों गुजर गए मुझे आईना देखे,

मुस्कुराऊ मैं कैसे अब तो परछाई भी डरती है।

कैसे भरते दिल ऐ ज़ख्म, लगाने वालों के मरहम ही ऐसे थे।

कभी रूबरू हुई ना खुशियाँ …………………………………….

कुदरत का हो जाये कोई करिश्मा ऐसा,

के दूर कहीं काईन भाग जाऊ।

इस ज़िंदगी से तो अच्छा ही होगा,

अंजाम मेरा और लौट के ना आऊ।

सोचता हु किस बात की थी ये सजा, क्या कहीं मेरे कर्म ही ऐसे थे।

कभी रूबरू हुई ना खुशियाँ ………

I never met happiness, that the pain and sorrow I got were like this.

Even if it would have been complete, how relaxed, only those who bring peace were like this.

Time passed and we endured, there were tears of blood and they kept on flowing.

One day you will be shattered, some loved ones keep saying this.

It will never be filled, nor will it ever heal, the wounds I got were like this.

Never met happiness…………………………………….

Even if I would have done it, friends, I was compelled at the hands of such time.

Life was sold at the hands of my misfortune, funds were away from the world.

Passing to any extent was common, he was merciless.

Never met happiness…………………………………….

When I remember those fake souls, my soul trembles,

I am so broken, I don't even know my own face.

Years have passed, look at me in the mirror,

How can I smile now even the shadow is afraid.

How the hearts filled with wounds were the same as the ointments of those who applied them.

Never met happiness…………………………………….

Let there be some charisma of nature,

Where should I run away?

There will be better than this life,

The end is mine and do not come back.

I wondered what was this punishment, was my karma like this?

Never met happiness………