Saturday, January 28, 2023
HomeLove sadDard-E-Ishaq Shayari – Kabhi Fursat Mile To Aana Karib

Dard-E-Ishaq Shayari – Kabhi Fursat Mile To Aana Karib

Dard-E-Ishaq Shayari : कभी फुर्सत मिले तो

कभी फुर्सत मिले तो आना करीब।

पूछे आँखों से, तू रकीब के मैं रकीब।

If you ever get free time, come closer.

Ask with your eyes, you are the enemy of the enemy.

Dard-E-Ishaq Shayari : जुबां चुप रहती है,

जुबां चुप रहती है, पर आँखे कहती हैं।

इश्क़दर्द में मेरी सांसे सिसकती हैं।

The tongue remains silent, but the eyes speak.

My breath sobs in love’s pain.

Dard-E-Ishaq Shayari : मैं तेरा इंतजार लिखू,

मैं तेरा इंतजार लिखू, तू मेरा प्यार पढ़ना।

दर्द हो आसपास, तू सिर्फ करार पढ़ना।

I wait for you to write, you read my love.

There may be pain around, you just read peacefully.

Dard-E-Ishaq Shayari : सारे जहां से छुपाते हैं,

सारे जहां से छुपाते हैं, प्यार का मशला तेरे शिवाय ना बताते हैं।

दर्द है जुदाई का बहुत, दिल से रो कर हम होठों से मुस्कुराते हैं।

Everyone hides from where, they don’t tell the matter of love except you.

There is a lot of pain in separation, after crying from the heart we smile with our lips

Dard-E-Ishaq Shayari : बिन तेरे जीया भी ना जाये,

बिन तेरे जीया भी ना जाये, अपना तुझे कहा भी ना जाये।

मिलने पर पाबंदी हजार, बिन तेरे दीदार रहा भी ना जाये।

I can’t even live without you, I can’t even say that you are mine.

There is a thousand restrictions on meeting, without you I can’t even see.

Dard-E-Ishaq Shayari : किसने कहा बिन तेरे जिन्दा हैं,

किसने कहा बिन तेरे जिन्दा हैं, अखरता है तेरा ना रूबरू रहना।

बिन तेरे दीदार, रह जायेगा फ़क़त तस्वीर में दिवार पर लटकना।

Who said that I am alive without you, I am unable to face you.

Without seeing you, I will only be left hanging on the wall in the picture.

Dard-E-Ishaq Shayari : मोहब्बत का आशियाँ बनाया था

मोहब्बत का आशियाँ बनाया था, प्यार करना मुझे सिखाया था।

क्यों याद नहीं आती तुझे, यादों का अहसास तूम ने जगाया था।

Had made the abode of love, had taught me to love.

Why don’t you remember, you had awakened the feeling of memories.

Dard-E-Ishaq Shayari : तेरे चाहने से चाहा था,

तेरे चाहने से चाहा था, फ़क़त तुझे दिल में बसाया था।

तूने तो निगाहें चुरा ली, मैंने तो पलकों पर बैठाया था।

I loved you because of your love, but I kept you in my heart.

You stole my eyes, I was sitting on my eyelids

- -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

Related News