तेरा हंसना मुझे भाता है

तेरा हंसना मुझे भाता है, हर जगह तेरा चेहरा नज़र आता है।

जब तू होठों से मुस्कान की माला पिरोता है, दिल तेरे ख्यालो में खो जाता है।

तेरी अदाओं का, तेरी बातों का , जग दीवाना है यार मेरे तेरे लब्जों का।

क्या खूबसूरत अल्फ़ाज़ है। रोते को हँसाना ये कमाल तेरी शरारतों का।

तुझसे फासले का ख्याल ही मुझे बहुत तड़पाता है।

तेरा हंसना मुझे भाता है…………………………….

ग़ुम बहुत है तेरे ख्यालों में, ढूंढते हैं तुझे ख्वाबों में।

अच्छा ना लगे मुझे जिक्र ना हो तेरा जिन बातों में।

हर पल एक सवाल जहन में, के यार ये क्या नाता है।

तेरा हंसना मुझे भाता है…………………………….

ये कैसा रिस्ता है, हर परछाई में तू दीखता है।

दिल दीवाना हुआ मेरा, राह तेरी तकता है।

तन्हा आहें भरता है, तेरा नाम जपता है।

मेरे दिल के नूर क्या तू भी मुझे प्यार करता है।

कभी आके तो देख यार ये दिल ऐ नादाँ तेरे सपने सजाता है।

तेरा हंसना मुझे भाता है…………………………….

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *