New Sad Shayari

Heart Touching New Sad Shayari In Hindi Teri khatir a behaya

New Sad Shayari In Hindi Teri khatir a behaya

सब कुछ खो के हम ही गुनहगार हो गए। sab kuchh kho ke ham hi gunahgar ho gaye.

तेरी खातिर अ बेहया रुसवा सरे बाजार हो गए। teri khatir a behya ruswa sare bazar go haye.

कुसूर था क्या मेरा, किस खता की ये सजा। kusoor tha kya mera, kis khata ki ye saja.

नैनों के मोती बिखरे, और तुझे आई ना लज्जा। nainon ke moti bikhare, or tujhe aai naa lajja.

सब खाख हुआ, और दुश्मन भी हज़ार हो गए। sab khakh hua, or dushman bhi hazar ho gaye.

तेरी खातिर अ बेहया ………………………….. teri khari a behaya ………………………….

New Sad Shayari

अगर भांफ जाते तेरे इरादे, होते ना कभी रूबरू। agar bhaf jate tere irade, hote naa kabhi rubru.

इतने दिए घाव तूने, कौन कौन से ज़ख्म भरु। itane diye ghaw tune, kon kon se jkhm bharu.

ये कैसा इश्क़ था के मेरे रक़ीब तेरा संसार हो गए। ye kaisa ishq tha ke mere rakib tera sansar ho gaye.

तेरी खातिर अ बेहया ………………………….. teri khari a behaya ………………………….

मालूम था मुरझायेगे, malum tha murjhayege.

उन फूलों की खातीर गुलिस्तां उजड़ा था। un foolo ki khatir gulistan ujada tha.

फिर किया क्यू इतना बड़ा फ़रेब, fir kiya kyu itana bada fareb,

मैंने तेरा क्या बिगाड़ा था। maine tera kya bigada tha.

एक पल ना चैन मुझे, ek pal naa chain mujhe,

ज़िंदगी में गम बेसुमार हो गए। zindgi me gam besumar ho gaye.

तेरी खातिर अ बेहया ………………………….. teri khari a behaya ………………………….

अब बस बहुत हुआ बर्दाश्त मुझे, ab bs bahut hua bardasat mujhe,

एक छोटी सी मुसकान की चाहत मुझे। ek chhotisi muskan ki chahat mujhe.

चला मैं तेरी महफ़िल से दूर, chala main teri mahfil se door.

और ना चाहिए तेरी झूठी इनायत मुझे। or naa chahiye teri jhuthi inayat mujhe.

तेरे मुँह से निकले अल्फ़ाज़, tere muh se nikale alfaz,

भाले और तलवार हो गए। bhale or talwar ho gaye.

तेरी खातिर अ बेहया ………………………….. teri khari a behaya ………………………….

New Sad Shayari In Hindi ye kya ho gaya hai .

ये क्या हो गया है, हर कोई ख़फ़ा ख़फ़ा है। ye kya ho gaya har koi khafa khafa hai.

कुछ भी तो याद नहीं किस गुनाह की सजा है। kuchh bhi to yaad nahi kis gunah ki saja hai.

नशीब मेरा मुझसे रूठा है, वक़्त ने हर बार लुटा है। nashib mera mujhse ruth gaya hai, waqat ne har bar luta hai.

सब ठीक हो जायेगा कहता मेरा मन, ये भी तो झूठा है। sab thik ho jayega kahata mera man, ye bhi to jhutha hai.

हर बार चोट खाई, जबकि किया ना किसी से दगा है। har bar chot khai, jabki kiya naa kisi se dga hai.

ये क्या हो गया है ……………………………………. ye kya ho gaya hai …………………..

new sad shayari

हसना चाह रहा हु, गम मैं छुपा रहा हु। hansana chah raha hu, gam main chhupa raha hu.

हसु तो हसु कैसे, दिल को खुद ही दुःखा रहा हु। hasu to hasu kaise, dil ko khud hi dukha raha hu.

खुशियों की राह तकता, khushiyo ki rah takata,

जाने इंतजार कितना लम्बा है। jane intjar kitna lamba hai.

ये क्या हो गया है ……………………………………. ye kya ho gaya hai …………………..

अब इम्तिहा हुई इंतजार की, ab imtihan hui intjar ki,

शायद आएगी ना घडी बहार की। shayad aayegi naa ghadi bahar ki.

तन्हा जीये हैं, अकेले जीना है, tanha jiye hain, akele jeena hai.

जबकि भीड़ बहुत थी संसार की jabki bhid bahut thi sansar ki.

चैन तो ना पाया दिल ने कभी, chain to naa paya dil ne kabhi,

मैं चला सुकूं जहां है। main chala sukun jahan hai.

ये क्या हो गया है ………………………………. ye kya ho gaya hai …………………..

More About New Sad Shayari

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *