मंजिल मिल जाती है

हज़ार मुँह हज़ार बातें , क्या फ़र्क पड़ता है किसी के कहने से।

बढ़ाते रहो कदम मंजिल मिल जाती है सरीता की तरह बहने से।।

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *